विदेश में लाखों रुपए की नौकरी छोड़कर भारत में शुरू किया चाय का कारोबार, आज कमा रहे हैं इतने रुपए

चाय भारत में सबसे लोकप्रिय पेय है. भारत में उगाई जाने वाली एक खास तरह की चाय आज पूरी दुनिया में जानी जाती है. लेकिन अब देश में कुछ स्टार्टअप ने इस चाय में नए रंग और फ्लेवर पेश किए हैं, जिसे बड़ी संख्या में पसंद किया जा रहा है.

दिल्ली के एनआरआई जगदीश कुमार ने कुछ ऐसा ही किया है, कई नए स्वाद वाली चाय को जनता के सामने पेश किया है. इतना ही नहीं जगदीश ने चाय बेचकर करीब 8 महीने में 1.2 करोड़ का मुनाफा कमाया है.

जगदीश ने होटल प्रबंधन संस्थान, भोपाल से स्नातक किया है. कुछ साल बाद, वह न्यूजीलैंड चले गए. लाखों की तनख्वाह थी, उन्होंने वहां 15 साल काम किया और फिर 2018 में भारत आ गए. भारत आने के बाद जगदीश ने महाराष्ट्र के नागपुर में अपना कारोबार शुरू किया.

न्यूजीलैंड में व्यापार करते समय उनके पास उस समय ग्रीन कार्ड भी था लेकिन वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मेक इन इंडिया कार्यक्रम से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने अपने ही देश में एक स्टार्टअप शुरू करने का फैसला किया और आज वह नई ऊंचाइयों को छू रहे हैं. न्यूजीलैंड से भारत आने के बाद, उन्होंने अपनी चाय के साथ नागपुर में कॉर्पोरेट कार्यालय में जाने के कई प्रयास किए. लेकिन जगदीश ने चाय बनाने के लिए जरूरी सामान इकठ्ठा किये और कॉर्पोरेट ऑफिस के बाहर चाय की दुकान खोल ली.

उनकी चाय बहुत लोकप्रिय हो रही थी, इसलिए जगदीश ने अपनी चाय की दुकान में ‘एनआरआई चायवाला’ का बैनर लगा दिया. लोग इसे प्यार करते थे. जगदीश की चाय का स्वाद लोगों को पसंद आने लगा. इस दौरान लोगों ने उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया. जगदीश एक निम्न मध्यम वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखते हैं और उन्होंने पहले कभी कोई व्यवसाय नहीं किया है. उनके अनुसार, चूंकि उनका मार्गदर्शन करने वाला कोई नहीं था, इसलिए उन्हें शुरू से ही खुद ही निर्णय लेने पड़ते थे.

एनआरआई चायवाला ने अपने अनोखे स्वाद वाली चाय का नाम बेहद अलग तरीके से रखा है. मदर्स हैंड टी, लव टी और बॉरोएड टी कुछ खास फ्लेवर हैं जो उनके नाम के अनुसार बनाए जाते हैं. इन सभी प्रकार की चाय में कुछ विशेष मसाले भी मिलाए जाते हैं, जो जगदीश का एक ‘रहस्य’ है.

इसके साथ ही जगदीश अब चाय को भारत और वैश्विक बाजार में लाने की ओर बढ़ रहे हैं. एक स्टार्टअप द्वारा विकसित, चाय में 35 प्रकार की जड़ी-बूटियाँ और मसाले के साथ-साथ बच्चों की चाय के लिए स्वस्थ चाय भी शामिल है. जगदीश ने दावा किया है कि यह चाय लोगों को शारीरिक लाभ देने के लिए बनाई गई है.